29 साल की रुशिना ने 12 लीटर ब्रेस्ट मिल्क दान कर 5 शिशुओं की बचाई जान


      अहमदाबाद। गुजरात की 29 साल की एक महिला ने अपना 12 लीटर ब्रेस्ट मिल्क दान कर गंभीर बीमार, अविकसित और जरूरतमंद 5 शिशुओं की जान बचाई है। ये बच्चे आईसीयू में भर्ती थे।
      टीचर रुशिना मारफातिया ने अर्पण नवजात शिशु देखभाल केंद्र के जरिए यह मदद पहुंचाई। अर्पण नवजात शिशु देखभाल केंद्र को डॉ. आशीष मेहता चलाते हैं। उनके मुताबिक, रुशिना का ब्रेस्ट मिल्क 600 ग्राम से लेकर 1.5 किलोग्राम के प्रीमैच्योर बेबीज को दिया गया। इससे बच्चों की जान बच गई। डॉक्टर ने मीडिया को बताया नवजात की मां बेहद कमजोर थीं और स्तनपान कराने में सक्षम नहीं थीं।


कुछ दिन पहले दिया था बेटे को जन्म :- अहमदाबाद की रहने वाली एक निजी कॉलेज की टीचर रुशिना डॉक्टर मारफतिया ने 20 सितंबर को बेटे वियान को जन्म दिया था। उन्हें दूध अधिक बन रहा था, जिससे उन्हें यह अहसास हुआ कि, वे दूध को दान कर सकती हैं, ताकि यह दूध उन बच्चों के काम आए, जिन्हें मां का दूध समय पर नहीं मिल पाता।  


अर्पण नवजात शिशु देखभाल केंद्र :- रुशिना के अनुरोध पर पिता ने अर्पण नवजात शिशु देखभाल केंद्र का पता लगाया। इसका अपना एक मदर्स ऑन मिल्क बैंक है। इसे डॉ. आशीष मेहता ने इसी साल पायलट प्रोजेक्ट के तहत शुरू किया था। बैंक को अब तक 90 लीटर ब्रेस्ट मिल्क दान में मिला है, जो 600 बच्चों के काम आ सकता है। बैंक से प्रत्येक बच्चे के लिए 150 मिली दूध की मात्रा तय है। इस बैंक से करीब 250 महिला जुड़ी हैं,जो ब्रेस्ट मिल्क दान करतीं हैं। 


Popular posts
महाकाल दर्शन हेतु महाकाल एप्प की लिंक एवं वेब साइट
Image
ऑटो पार्ट रिटेलर्स और वर्कशाप की दिक्कतें अब दूर हुईं; ऑटोमोबाइल सर्विस प्रोवाइडर गोमैकेनिक ने वापी में नया स्पेयर पार्ट्स फ्रैंचाइज़ी आउटलेट शुरू किया
Image
पियाजियो व्ही।कल्सऔ ने जयपुर में राजस्था न के अपनी तरह के पहले इलेक्ट्रिक व्हीजकल (ईवी) एक्सेपीरियेंस सेंटर का उद्घघाटन किया
Image
देश की एम्प्लॉयी फ्रेंडली कंपनी में शुमार हुआ पीआर 24x7; फीमेल स्टाफ के मासिक धर्म के लिए उठाया सार्थक कदम
Image
‘‘एक महिला को एक महिला से बेहतर कोई और नहीं समझ सकता’’, यह कहना है एण्डटीवी के ‘संतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएं’ की तन्वी डोगरा का
Image