शोले में गब्बर के जबरदस्त रोल से अमर हो गए थे अमजद खान

   


फिल्म शोले इंडस्ट्री की बड़ी ब्लॉकबस्टर फिल्मों में शुमार है। वैसे तो इस फिल्म के सभी किरदार अमर थे मगर इसके बावजूद जिस एक किरदार को इस फिल्म से सबसे अधिक फेम और फायदा मिला वो था गब्बर का किरदार। डाकू के रोल में अमजद खान ने इतना शानदार काम किया की वे इंडस्ट्री में विलन की नई परिभाषा बन गए।
शोले अमजद खान की पहली फिल्म नहीं
बता दें कि बहुत लोगों को इस बात का भ्रम है कि शोले अमजद खान की पहली फिल्म थी। मगर ये सच्चाई नहीं है। अमजद ने शोले की रिलीज के 25 साल पहले ही फिल्मों में अभिनय की शुरुआत की थी। अमजद खान का जन्म 12 नवंबर, 1940 को पेशावर में हुआ था।
उन्होंने साल 1951 में नाजनीन फिल्म से एक चाइल्ड आर्टिस्ट के तौर पर अपने करियर की शुरुआत की थी। इसके बाद उन्होंने अब दिल्ली दूर नहीं, माया और हिंदुस्तान की कसम जैसी फिल्मों में भी काम किया। इस सफर में उन्हें 25 साल लगे और संघर्ष भी जारी रहा।
गब्बर के किरदार के लिए डैनी डेन्जोंगपा को साइन
शोले में गब्बर के रोल के लिए अमजद खान पहली पसंद नहीं थे। शोले में गब्बर के किरदार के लिए डैनी डेन्जोंगपा को साइन किया था, लेकिन कुछ डेट्स नहीं मिलने के कारण बाद में इस किरदार के लिए अमजद खान का नाम फाइनल हो गया।
आपको बता दें कि अमजद खान की मौत 51 साल की उम्र में हार्ट अटैक से हुई थी। इस हार्ट अटैक का कारण था एक हादसा। अमजद जब The Great Gambler फिल्म की शूटिंग के लिए मुंबई-गोवा हाईवे से जा रहे थे तभी रास्ते में उनकी गाड़ी का एक्सीडेंट हुआ। यह एक्सीडेंट इतना खतरनाक था कि वह कोमा में चले गए। कुछ समय बाद वह कोमा से तो बाहर आ गए थे लेकिन इस एक्सीडेंट के बाद उनका वजन बढ़ने लगा और आखि‍रकार साल 1992 में उनका हार्ट फेल होने से निधन हो गया।