शाही सवारी परिवर्तित मार्ग से ही निकलेगी


उज्जैन। कोरोना संकट को देखते हुए भगवान श्री महाकालेश्वर की शाही सवारी 17 अगस्त सोमवार को केंद्र व राज्य सरकार की गाइडलाइन  एवं हाई कोर्ट द्वारा दिए गए दिशा निर्देशों के पालन में परिवर्तित मार्ग  से ही निकाली जाएगी। शाही सवारी शाम 4:00 बजे श्री महाकालेश्वर मंदिर से  रवाना हो कर हरसिद्धि मन्दिर के पास से होते झालरिया मठ ,सिद्धाश्रम होते हुए रामघाट पहुंचेगी ।यहां पर पूजन अर्चन के पश्चात  शाही  सवारी  रामानुज कोट होते हुए हरसिद्धि मंदिर वाले मार्ग से होकर वापस  श्री महाकालेश्वर मंदिर पहुंचेगी ।शाही सवारी में इस बार साक्षी गोपाल मंदिर के समक्ष भी भव्य आरती  का आयोजन किया जाएगा। 
            कलेक्टर श्री आशीष सिंह ने यह जानकारी देते हुए बताया कि यद्यपि जिला आपदा प्रबंधन समिति की बैठक में जनप्रतिनिधियों के द्वारा यह  सुझाव आया था कि शाही सवारी परंपरागत मार्ग से ही निकाली जाए, किंतु ज़िले में कोरोना की स्थिति को देखते हुए तथा केंद्र व राज्य  शासन की गाइडलाइन  व हाई कोर्ट के दिशा निर्देशों के मद्देनजर सवारी परिवर्तित मार्ग से ही निकाले जाने का निर्णय लिया गया है। 
कलेक्टर श्री आशीष सिंह ने यह भी बताया कि इस बार की शाही सवारी में और अधिक भव्यता देखने को मिलेगी। जगह-जगह पर तोरण द्वार, पुष्पवर्षा तथा अलंकरण के अन्य माध्यमों का प्रयोग किया जाएगा। उज्जैन की जनता से अपील की जाती है कि वह पूर्व सवारियों की भाँति ही शाही सवारी के लाइव प्रसारण और आकर्षक कॉमेंट्री का आनंद विभिन्न सोशल मीडिया माध्यमों से घर पर ही रहकर प्राप्त करें।


Comments