काम के बोझ से परेशान है तो करे ये सरल अभ्यास

      लॉक डाउन के दौरान काम के बोझ से परेशान महिलाओ, माताओं, बहनो के लिए सरल अभ्यास सुबह शाम करें - मार्जारी आसन।  - योगाचार्य महेश अग्रवाल, 9827042893



      मार्जारी आसन - मार्जारी अर्थात बिल्ली - यह आसन गर्दन, कंधो और रीढ़ को अधिक लचीला बनाता है। यह स्त्रियों के मासिक चक्र की गड़बडियो को और श्वेत प्रदर को दूर कर जनन अंगों को शक्ति प्रदान करता है। मासिक स्त्राव के समय होने वाली ऐठनो से आराम पाने के लिए इसका अभ्यास किया जा सकता है। शिथिलीकरन के समय पेट उदर को सिकोडा जाये तो इससे अधिक लाभ मिलता है। पूर्ण गर्भ काल तक इसके अभ्यास का परामर्श दिया जाता है। पेट पर चढ़ी चर्बी को कम करता और पाचन क्रिया को सक्रिय बनाता तथा कब्ज को दूर करता है। मेरुदंड को तानता और झुकाता है, जिससे मेरुदंड की तंत्रिकाए समन्वित होती है। पीठ मे कही भी दर्द हो, इस अभ्यास से दूर हो जाता है।



  • एकाग्रता - नाभि के संकुचन एवं शिथिलन पर, या मेरुदण्ड के खिचाव पर, मणिपुर चक्र पर।

  • सावधानियां - मेरुदंड और कमर के तेज दर्द से पीड़ित लोग इस क्रिया को धीरे धीरे करें।

  • विशेष ध्यान दे गर्दन को आगे झुकाते समय श्वास पूरी खाली करें एवं गर्दन ऊपर उठाते समय श्वास भरे, 10 से 15 बार करें।


योगाचार्य से फेसबुक पर जुड़ने के लिए क्लिक करे।