चुराए हुए शैम्पू से नदी में नहाता फिर पहाड़ी पर छुप जाता था, चोर




      आगर (मालवा)। अतिप्राचिन चिंताहरण गणेश मंदिर तथा बाबा बैजनाथ महादेव मंदिर के पीछे स्थित गुमटियों में चोरी की वारदात को अंजाम देने वाला शातिर चोर आखिरकार कोतवाली पुलिस के हत्थे चढ़ गया। पुलिस ने आरोपी को सोमवार को गिरफ्तार कर जब पूछताछ की तो उसके द्वारा दोनों ही स्थानों पर चोरी की वारदात को अंजाम देना कबूल किया गया। चोर चुराए हुए खाने के दम पर पांच दिन पहाड़ी पर छिपा रहा और वह चुराए शैम्पू से नदी पर नहाने आता, फिर चुपके से वापस पहाड़ी पर चला जाता। ऐसे ही वह पुलिस को चकमा दे रहा था।


      उपनिरीक्षक एवं प्रभारी थाना प्रभारी पीएन शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि 10 अक्टूबर को बाबा बैजनाथ महादेव मंदिर के पीछे स्थित बृजमोहन सोनी, रमेश माली, रविंद्र शर्मा की दुकानों के ताले तोड़कर कोई अज्ञात बदमाश खाने-पीने की सामग्री तथा नकदी लेकर फरार हो गया था। इसी तरह 8-9 दिसंबर की रात्रि को मोतीसागर तालाब किनारे स्थित चिंताहरण गणेश मंदिर में ताला तोड़कर दान पेटी से नकदी चोरी होने की घटना घटित हुई थी। एसपी सविता सोहाने के मार्गदर्शन, एएसपी प्रदीप पटेल एवं एसडीओपी एसआर पाटीदार के निर्देशन में जब दोनों ही वारदातों के संबंध में पतारसी की गई तो एक शातिर चोर का नाम सामने आया। मुखबिर की सूचना के आधार पर ग्राम लिंगोड़ा निवासी लालजीराम पिता चंदरलाल मालवीय २५ वर्ष को गिरफ्तार कर जब उससे पूछताछ की गई तो उसने दोनों ही वारदातों को अंजाम देना कबूल किया। आरोपी से ८१० रुपए नकद व अन्य सामग्री बरामद की गई है। कार्रवाई में उपनिरीक्षक बीएल ठकराल, सउनि कैलाश सोनानिया, प्रआर सुरेन्द्र सिंह, सतीश नाथ, आरक्षक शिवम यादव की सराहनीय भूमिका रही।


शातिराना अंदाज में दिए पुलिस को जवाब :
पुलिस के हत्थे चढ़े आरोपी लालजीराम मालवीय से जब पुलिस ने पूछताछ की तो पुलिस भी हैरान रह गई। आरोपी के चेहरे पर तनिक भी शिकन नहीं थी और बड़े ही शातिराने अंदाज में पुलिस के समक्ष अपने अपराध को स्वीकार कर रहा था। आरोपी ने पुलिस को बताया कि बैजनाथ मंदिर परिसर की गुमटियों के ताले तोड़ वारदात को अंजाम देने के बाद जो खाद्य सामग्री चुराई थी उसके सहारे मंदिर की पहाड़ी पर ही ५ दिनों तक रुका रहा। दुकानों से शेम्पू एवं साबुन चुराए थे तो नदी में आकर स्नान कर लेता था और वापस पहाड़ी पर चला जाता था। आरोपी इससे पूर्व भी कई छोटी-बड़ी चोरी की घटनाओं को अंजाम दे चुका है। कानड़ थाने मे भी आरोपी के विरुद्ध प्रकरण दर्ज हुआ था। तनोडिय़ा क्षेत्र में चोरी के मामलो में कई मर्तबा पुलिस के हत्थे चढ़ चुका है।