आज की बात आपके साथ - विजय निगम


💐प्रिय साथियो।💐  
💐राम-राम ,💐
💐 नमस्ते।💐


         💐।। आज की बात आपके साथ।।💐


आज की बात आपके साथ मे आप सभी साथीयों का दिनांक 22 दिसंबर 2019  रविवार की प्रातः की बेला में हार्दिक वंदन है अभिनन्दन है।
💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂
आज की बात आपके साथ मे है 
A कुछ रोचक समाचार 
B आज के दिन जन्मे  महान गण‍ितज्ञ रामानुजन का जीवन परिचय  लेख।
C.आज के दिन की ऐतिहासिक महत्वपूर्ण घटनाए
D आज के दिन जन्म लिए महत्त्वपूर्ण व्यक्तित्व
E आज के निधन हुवे महत्वपूर्ण व्यक्तित्व।
F आज के दिवस का नाम ।    
💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐
 
                A कुछ रोचक समाचार
💐(A/1) सर्दी के मौसम में सेहत बनाइये अच्छा पोस्टिक भोजन।  अपनाइये।💐
💐(A/2)नए साल में राशन कार्ड बदले जाएंगे? मोदी सरकार की ओर से मिला ये जवाब।💐
💐:(A/3) स्कूल में महिला सशक्तिकरण पर बोलीं आराध्या, वीडियो हुआ वायरल💐
💐🎂💐🎂💐🎂💐@🎂💐🎂💐🎂💐🎂


💐A/1 सर्दी के मौसम में सेहत बनाइये अच्छा पोस्टिक भोजन।  अपनाइये।💐


शीत ऋतु में सेहतमंद रहने के लिए व्यायाम के साथ शरीर को स्वस्थ रखने के लिए आपको व परिवार को दूध पीना अति आवश्यक है ।
         दूध पीना यदि आपको पसंद नही है तो  डाइट में शामिल करें ये 5 चीजें, कैल्शियम की नहीं होगी कमी।
           विटामिन, प्रोटीन, पौटेशियम, फॉस्फोरस और कैल्शियम से परिपूर्ण दूध हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद है। शरीर में कैल्शियम की कमी को पूरा करने के लिए दूध से बनी चीजों का प्रयोग करते हैं। लेकिन जिनको दूध पसंद नही वो क्या करे? अगर चाहते हैं कि शरीर को पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम मिल जाएऔर दूध भी पीना ना पड़े, तोउसके लिए कुछचीजें
 हैं जिन्हें खाने से शरीर में कैल्शियम की कमी पूरीहोती
 है।इसमें सबसे पहले नाम आता है बादाम का।
                       1.💐बादाम💐
 पोषक तत्वों सेभरपूर बादाम को रोजानाअपने खाने मे शामिल करें। रोजाना दिनमें  4 से 5  बादाम खाने से 
कैल्शियम की  कमी तो पूरी होगी ही ,साथ ही ये ठंड 
सेभीआपको बचायगी।इसके अलावा इसमें पोटेशियम,
 विटामिन ई और आयरन भी होता है।
                       2.💐 बीन्स  💐
बीन्समेंकाफीमात्रा में कैल्शियम होता है।साथ हीबीन्स।चर्बी घटाने मे  भी  कारगर है।बीन्स की सबसे बड़ी खासियत यह है कि ये आपको काफी समय तक हेवी फील करवाती है, जिस वजह से आप बाहर की चीजों को खाने से परहेज करते हैं। इसके अलावा बीन्स के सेवन से मांसपेशियां मजबूत होती हैं और पाचन क्रिया भी ठीक रहती है।
                      3.💐अंजीर 💐
अंजीर का सेवन स्वास्थ्य के लिए काफी लाभदायक होता है। इसमें कैल्शियम के साथ ही फाइबर और पोटैशियम की मात्रा भी पाई जाती है। अंजीर के सेवन से हड्डियों को मजबूती मिलती है और मैग्नीशियम की मदद से दिल की धड़कन सही बनी रहती है।
                      4.💐 संतरा💐
विटामिन डी से भरपूर संतरा कैल्शियम का भी एक अच्छा स्रोत है। संतरे में कैल्शियम भी प्रचुर मात्रा में पाई जाती है। इसके सेवन से  शरीर में कैल्शियम की पूर्ति की जा सकती है।
                       5.💐 तिल्ली 💐
अपने सलाद में तिल के बीज मिलाएं। ये दूध ना पसंद करने वालों को लिए  सेहतमंद व फायदेमंद है।
साथ ही आप इस मौसम तिल व गुड़ से बनी मिठाईया जैसे रेवड़ी,गजक का भी उपयोग कर सकते है। ये मिठी, पौस्टिक,एवम स्वास्थवर्धक होती है।इसे आप घर भी तैयार कर सकते है या बाजार में जंहा तिल की मिठाईया बनाई जाती है वहां से आपको शुद्ध स्वादिस्ट पोस्टिक गज़क प्राप्त होगी।
💐🎂💐🎂💐🎂💐@💐🎂💐🎂💐🎂💐


💐A/2नए साल में राशन कार्ड बदले जाएंगे? मोदी सरकार की ओर से मिला ये जवाब।💐


मोदी सरकार की महत्वाकांक्षी 'एक राष्ट्र, एक राशन कार्ड' योजना जून 2020 से लागू होने वाली है।. इस योजना को लेकर कई तरह की खबरें चल रही हैं।.
खबरों में ये दावा किया जा रहा है कि इस योजना के लिए लोगों को नए राशन कार्ड लेने होंगे।. हालांकि अब इस मामले में सरकार की ओर से जवाब आ गया है।.
    खाद्य मंत्री रामविलास पासवान ने कहा है कि यह तथ्यहीन बात है। उन्‍होंने कहा, ''नया राशन कार्ड लेना आवश्यक नहीं है।मौजूदा कार्ड पूरे भारत में मान्य होगा।'' इसका मतलब ये हुआ कि आप अगर देश के किसी दूसरे राज्य में जाते हैं तो एक ही कार्ड पर राशन ले सकेंगे।
     श्री रामविलास पासवान ने बताया कि लाभार्थी अपने मौजूदा राशन कार्ड का उपयोग इलेक्ट्रॉनिक प्वाइंट ऑफ सेल (ईपीओएस) मशीनों पर बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण द्वारा कर सकते हैं।मंत्री ने बताया कि राज्य स्तरीय पोर्टेबिलिटी 12 राज्यों में पूरी तरह और चार में आंशिक रूप से चालू है।
आठ राज्य आपस में एक दूसरे के यहां जारी कार्ड को स्वीकार करने लगे हैं।. आठ राज्यों में दो-दो सटे राज्यों के बीच कार्ड की पोर्टबिलिटी शुरू हो चुकी है।
इनमें आंध्र प्रदेश और तेलंगाना, गुजरात और महाराष्ट्र, हरियाणा और राजस्थान तथा कर्नाटक और केरल शामिल हैं।. मध्यप्रदेश, गोवा, झारखंड और त्रिपुरा भी पहली जनवरी से इसमें जुड़ जाएंगे।.
सरकारी आंकड़ों के मुताबिक राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून के तहत लगभग 75 करोड़ लाभार्थियों को शामिल किया जा चुका है. लक्ष्य 81.35 करोड़ लोगों को कवर करने का है। केंद्र सरकार अगले साल 1 जून से देशभर में इस पहल को लागू करने की तैयारी में है।.
💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂@💐🎂💐🎂💐🎂


 💐:(A/3) स्कूल में महिला सशक्तिकरण पर बोलीं आराध्या, वीडियो हुआ वायरल💐
 अमिताभ बच्चन की पोती आराध्या बच्चन ने हाल ही में अपने स्कूल में परफॉर्मेंस दी और इस दौरान वो महिला सशक्तिकरण पर बोलती नजर आईं। उनका यह वीडियो वायरल हो गया है।
                      मुख्य बातें
ऐश्वर्या राय की बेटी आराध्या बच्चन हाल ही में स्कूल के वार्षिक समारोह में पहुंचीं
आराध्या ने यहां महिला सशक्तिकरण पर स्ट्रॉन्ग मैसेज दिया
आराध्या का यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है जिसे बहुत पसंद किया जा रहा है
बॉलीवुड एक्टर अभिषेक बच्चन और ऐश्वर्या राय बच्चन की बेटी आराध्या बच्चन की हाल ही में तस्वीरें सामने आईं थीं जब वो साड़ी पहने और बालों में गजरा लगाए नजर आईं थीं ।और यह मौका था स्कूल के एनुअल फंक्शन यानी वार्षिक समारोह का। आराध्या की ये तस्वीरें सामने आते ही तेजी से वायरल हो गईं थीं जो कि उनके फैंस को भी काफी पसंद आ रहीं थीं।
अब आराध्या की परफॉर्मेंस का वीडियो सामने आया है, जिसमें वो एक स्ट्रॉन्ग मैसेज देती हुई नजर आ रही हैं।आराध्या का यह वीडियो एक फैन ने सोशलमीडिया 
पर शेयर किया है और इसे शेयर कर उन्होंने लिखा, 'वाह!!! आराध्या बेहद टैलेंटेड हैं। क्या आत्मविश्वास है। बाबूजी, दादाजी, दादीजी, पापा और मां का गर्व हैं आराध्या।'
इस वीडियो में आराध्या महिला सशक्तिकरण की बात कर रही हैं। इस वीडियो में उनके कहते हुए सुना जा सकता है, 'मैं कन्या हूं। मैं सपना हूं। मैं नई उम्र का सपना हूं। हम नई दुनिया में आंख खोलेंगे। एक दुनिया जहां मैं सुरक्षित होऊंगी। जहां मुझे प्यार किया जाएगा और मेरा सम्मान होगा। एक ऐसी दुनिया जहां अहंकार की अनदेखी से मेरी आवाज शांत नहीं होगी बल्कि समझदारी की समझ के साथ मुझे सुना जाएगा। एक ऐसी दुनिया जहां ज्ञान मानवता की नदी के माध्यम से आजादी से बहने वाली जीवन की किताब से आएगा। हम नारी हैं, हम कन्या हैं। हम किसी से कम नहीं हैं।' आराध्या के इस वीडियो को उनके दादा औरमहानायक
अमिताभ बच्चन ने रीट्वीट करते हुए लिखा,'हमारे परि
-वार का गौरव, एक लड़की का गौरव..सभी महिलाओं 
का गौरव.. हमारी प्यारी आराध्या।'
💐🎂💐🎂💐🎂@💐💐💐💐💐🎂💐🎂


💐(B/2)  महान गण‍ितज्ञ रामानुजन के बारे में जानिए 10 खास तथ्य💐
रामानुजन ने गणित के ऐसे-ऐसे सिद्धांत दिए जिन्‍हें आज तक सुलझाया नहीं जा सका है।उनके फॉर्मूलों कई वैज्ञानिकखोजों में मददगार साबित हुएउनकेलिखे
हुए कई थ‍ियोरम सिद्ध किए जा चुके हैं।
महान गण‍ितज्ञ श्रीनिवास रामानुजन  के बारे में खास बातें।
रामानुजन के जन्‍मदिन को राष्‍ट्रीय गण‍ित द‍िवस के रूप में मनाया जाता है।
बेहद कम उम्र में ही रामानुजन ने गण‍ित में अपनी विद्वता साब‍ित कर दी थी।
विदेशीगण‍ितज्ञ भी रामानुजन को प्रेरणास्रोत मानते हैं।
भारत के महान गण‍ितज्ञ श्रीनिवास रामानुजन काआज 
जन्‍म दिन है. इस दिन को राष्‍ट्रीय गण‍ित द‍िवस के रूप में मनाया जाता है. बेहद साधारण परिवार में जन्‍म लेने वाले रामानुजन ने वो कर द‍िखाया जो शायद ही कोई कर पाए।बेहदकम उम्र में मैथ्‍स के थियोरम ल‍िखनेवाले 
रामानुजन सिर्फ भारत के लिए ही नहीं पूरी दुनिया के लिए मिसाल हैं. उन्‍होंने गणित के ऐसे-ऐसे सिद्धांत दिए जिन्‍हेंआज तक सुलझाया नहींजासका है।उनकेफॉर्मूलों 
कईवैज्ञानिक खोजों मेंमददगार साबित हुए।उनकेलिखे
हुएकई थ‍ियोरम सिद्ध किए जा चुके हैं।लेकिनअब तक यहनहीं समझाजा सका है किआख‍िरउन्‍होंने ऐसेजटिल
फॉर्मूलों के बारे में सोचा कैसे होगा।यहां पर हमआपको 
रामानुजन की जिंदगी से जुड़ी ऐसी 10 बातों के बारे में बता रहे हैं।
1.महान गण‍ितज्ञ श्रीन‍िवास रामानुजन का जन्‍म  22 दिसंबर 1887कोकोयंबटूर केईरोड गांव के एकब्राह्मण
परिवार में हुआ था ।उनकी मां का नाम कोमलताम्‍मल और पिता का नाम श्रीनिवास अय्यंगर था। उनके जन्‍म के बाद पूरा परिवार कुंबाकोनम जाकर बस गया, जहां पिताश्रीनिवासएककपड़े की दुकानमें काम करनेलगे।. 
2.शुरूमें रामानुजन सामान्‍य बच्‍चों की तरह ही थे।.यहां
 तक कि तीन साल की उम्र तक उन्‍होंने बोलना भी शुरू नहीं क‍िया था। स्‍कूल में एडमिशन हुआ तो पढ़ाने का घ‍िसा-पिटा अंदाज उन्‍हें बिलकुल भी नहीं भाया।.
हां,येऔर बात है कि10 साल की उम्र में उन्‍होंनेप्राइमरी
एग्‍जाम में पूरे जिले में टॉप किया।. 15 साल की उम्र में वो 'ए सिनॉपसिस ऑफ एलिमेंट्री रिजल्‍ट्स इन प्‍योर एंड एप्‍लाइट मैथमेटिक्‍स' नाम की बेहद पुरानी किताब को पूरी तरह घोट कर पी गए थे।इस किताब में हजारों थियोरम थे। यह उनकी प्रतिभा का ही फल था कि उन्‍हें  आगे की पढ़ाई के लिए स्‍कॉलरश‍िप भी मिली।
3. रामानुजन का मन सिर्फ मैथ्‍स में लगता था. उन्‍होंने दूसरे सब्‍जेक्‍ट्स की ओर ध्‍यान ही नहीं दिया.नतीजतन 
उन्‍हें पहले गवर्मेंट कॉलेज और बाद में यूनिवर्सिटीऑफ 
मद्रास की स्‍कॉलरश‍िप गंवानी पड़ी. इन सबके बावजूद मैथ्‍स के प्रतिउनकालगावज़रा भी कम नहीं हुआ1911
में इंडियन मैथमेटिकल सोसाइट के जर्नल में उनका17 
पन्‍नों का एक पेपर पब्‍लिश हुआ जो बर्नूली नंबरों पर आधारित था।1912 में रामानुजन मद्रास पोर्ट ट्रस्‍ट में क्‍लर्क की नौकरी जरूर करने लगे थे लेकिन तब तक उनकी पहचान एक मेधावी गणितज्ञ के रूप में होने लगी थी।. 
4. इसी दौरान रामानुजन उस समय के विश्‍व प्रसिद्ध ब्रिटिश गण‍ितज्ञ जीएच हार्डी के काम के बारे में जानने लगे थे।1913 में रामानुजन ने अपना कुछ काम पत्र के जरिए हार्डी के पास भेजा।फ़शुरुआत में हार्डी ने उनके खतों को मजाक के तौरपर लिया,लेकिनजल्‍द हीउन्‍होंने
उनकी प्रतिभा भांप ली।फिर क्‍या था हार्डी रामानुजन 
को पहले मद्रास यूनिवर्सिटी में और फिर कैंब्रिज में स्‍कॉलरशिप दिलाने में मदद की।हार्डी ने रामानुजन को अपनेपास कैंब्रिज बुला लिया।हार्डी के सानिध्‍य रामानु
-जन ने खुद के 20 रिसर्च पेपर पब्‍लिश किए|. –1916 में रामानुजन को कैंब्रिज से बैचलर ऑफ साइंस की डिग्री मिली और 1918 में वो रॉयल सोसाइटी ऑफ लंदन के सदस्‍य बन गए.
5. भारत गुलामी की जंजीरों में जकड़ा हुआ था और ऐसे समय में किसी भारतीय को रॉयल सोसाइटी की सदस्‍यता मिलना बहुत बड़ी बात थी. रॉयल सोसाइटी के पूरे इतिहास में रामानुजन कम आयु का कोई सदस्य आज तक नहीं हुआ है. रॉयल सोसाइटी की सदस्यता के बाद वे ट्रिनीटी कॉलेज की फेलोशिप पाने वाले पहले भारतीय भी बने.|
6. रामानुजन कड़ी मेहनत कर रहे थे. ब्रिटेन का ठंड और नमी वाला मौसम उन्‍हें सूट नहीं कर रहा था|. 1917 में उन्‍हें टीबी भी हो गया. स्‍वास्‍थ्‍य में थोड़े-बहुत सुधार के बाद 1919 में उनकी हालत बहुत ज्‍यादा खराब हो गई और वो भारत लौट आए. 26 अप्रैल 1920 को 32 साल की बेहद कम उम्र में उनका देहांत हो गया|बीमारी की हालत में भी उन्‍होंने मैथ्‍स से अपना नाता नहीं तोड़ा|. बेड पर लेटे-लेटे वो थियोरम लिखते रहते थे. पूछने पर कहते थे कि थ‍ियोरम सपने में आए थे. |
7.रामानुजन के बनाए हुए ढेरों ऐसे थियोरम हैं जोआज
 भी किसी पहेली से कम नहीं हैं.,उनका एक पुराना रजिस्‍टर 1976 में ट्रिनीटी कॉलेज की लाइब्रेरी से मिला था, जिसमें थियोरम और कई फॉर्मूले थे. इस रजिस्‍टर के थियोरम की गुत्‍थी आज तक नहीं सुलझ पाई है. इस रजिस्‍टर को रामानुजन की नोट बुक के नाम से जाना जाता है.।
8. रामानुजन को ईश्‍वर में अपार व‍िश्‍वास था. जब उनसे गण‍ित के फॉर्मूले की उत्‍पत्ति के बारे में पूछा जाता था तो वो कहते थे कि ईष्‍ट देवी नामगिरी देवी की कृपा से उन्‍हें यह फॉर्मूला सूझा. वे कहते थे, 'मेरे लिए गण‍ित के उस सूत्र का कोई मतलब नहीं जिससे मुझे आध्‍यात्‍मिक विचार न मिलते हों.'
9. रामानुजन की बायोग्राफी 'द मैन हू न्‍यू इंफिनिटी' 1991 में पब्‍लिश हुई थी. इसी नाम से रामानुजन पर एक फिल्‍म भी बन चुकी है. इस फिल्‍म में एक्‍टर देव पटेल ने रामानुजन का किरदार निभाया है. 10. रामानुजन आज भी न सिर्फ भारतीय बल्‍कि व‍िदेशी गण‍ितज्ञों के लिए प्रेरणास्रोत हैं.
💐🎂💐💐🎂💐🎂💐@”@💐🎂💐🎂💐
       
               💐 (C) आज के दिन की 
            ऐतिहासिक प्रमुख घटनाएँ💐


1937- न्यूयार्क में द लिंकन टनल यात्रा के लिए खोल दिया गया।
1947- इटली की संविधान सभा में नए संविधान पर मतदान हुआ।
1947 - पहला व्यवहारिक रेडियो प्रदर्शित किया गया।
1957- ओहायो के कोलंबोचिड़ियाघर में कोलो नामक गुरिल्ला के बच्चे का जन्म हुआ जो चिडियाघर में पैदा होने वालापहला गुरिल्ला था।इससे पूर्व गुरिल्लाशिकार
द्वारा पकड़े जाते थे और उन्हें नियंत्रित करने के लिए उनके संबंधियों का कत्ल कर दिया जाता था।
1940- प्रख्यात सामाजिक विचारक मानवेन्द्र नाथ राय ने रेडिकल डेमोक्रैटिक पार्टी के गठन की घोषणा की।
1965- ब्रिटेन में सभी ग्रामिण सड़कों पर अधिकतम गति की सीमा 70 किमि./घंटा निर्धारित कर दी गई।
2002 - दवाओं के दुरुपयोग के मसले पर दक्षेस देशों के स्वयंसेवी संगठनों की तीन दिवसीय बैठक काठमांडू में शुरू।
2005 - ईरान ने ज़हरीली गैस से हज़ारों ईरानियों को मारने के आरोप पर सद्दाम हुसैन पर मुकदमा चलाने की मांग की।
2006 - भारत और पाकिस्तान ने स्थानीय निकाय के क्षेत्र में आपसी सहयोग के लिए एक संयुक्त कार्यदल का गठन किया।
 2007 - फ़्रैंच गुआना के गौस अंतरिक्ष केन्द्र से प्रक्षेपित किये गए यूरोप के एरियन रॉकेट ने अंतरिक्ष कक्षा में दो उपग्रह स्थापित किये।
💐🎂💐🎂💐🎂💐@💐🎂💐🎂💐🎂🎂
  
            💐(D)आज के दिन जन्म लिए 
                     महत्वपूर्ण व्यक्तित्व💐


1666-  श्री गुरु गोबिंद सिंह  ने 22 दिसंबर 1666 में आज ही दिन जन्म लिया।
1887-प्रसिद्ध भारतीय गणितज्ञ श्री निवासरामानुजम, ने आज ही के दिन जन्म लिया। 
1922-  सुप्रसिद्ध अमेरिकी राजनितिज्ञ ब्रूक्स, का जन्म भी आज ही के हुआ।
💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂@@💐🎂💐🎂💐
        
   💐(E)आज के दिन निधन हुवे 
                    महत्वपूर्ण व्यक्क्तित्व💐


1958 तारकनाथ दास भारत के प्रसिद्ध क्रान्तिकारियों 
में से एक थे।इनका निधन आज ही के दिन हुआ।
💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂@💐🎂💐@💐💐
         
     💐 ( F)   आज के दिवस का नाम💐  


       गुरु गोविंद सिंह जयन्ति/ या
      गुरु गोविंद सिंह जन्म दिवस 


💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂@💐🎂💐🎂💐💐
  
   आज की बात -आपके साथ" मे आज इतना ही।कल पुन:मुलाकात होगी तब तक के लिये इजाजत दिजीये।
      सभी साथियो का आज के दिन की बधाई। आज जिनका परिणय दिवस हो उनको भी हार्दिक बधाई। ।
बाबा महाकाल से निवेदन है की बाबा आप सभी को स्वस्थ्य,व्यस्त मस्त रखे।
कल के अंक में आप से पुनः मुलाकात होगी धन्यवाद।
💐जय चित्रांश💐
💐जय महाकाल, बोले सो निहाल💐
💐जय हिंद जय भारत💐


 💐 निवेदक;-💐


  💐 चित्रांश ;-विजय निगम।💐
  💐  दिनांक;-  22 दिसंबर 2019💐
  💐 वार;-        रविवार💐


💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂💐🎂@💐🎂💐🎂


Comments